Android 11 के बेस्ट 11 फीचर्स, जो बदल देंगे स्मार्टफोन यूज करने का अंदाज

आपके स्मार्टफोंस को और भी स्मार्ट बनाते हुए तथा मोबाइल तकनीक को और भी एडवांस करते हुए टेक दिग्गज़ Google ने अपना नया ऑपरेटिंग सिस्टम Android 11 दुनिया के सामने पेश कर दिया है। हालांकि कंपनी की ओर से एंड्रॉयड 11 का बीटा वर्ज़न जारी किया गया है जो फिलहाल कुछ ही फोन में उपलब्ध हो पाएगा, लेकिन कंपनी ने फीचर्स की जानकारी जरूर दे दी है। साथ ही यह भी बता दिया है कि नया ओएस कितना स्मार्ट है।

Android 11 में गूगल ने दर्जनों ऐसे फीचर्स डाले हैं जो स्मार्टफोन एक्सपीरियंस को किसी साइंस फिक्शन या जेम्स बांड मूवी वाला अहसास कराने में सक्षम हैं। इस नए ओएस के फीचर्स को कंपनी ने तीन हिस्सों People, Control और Privacy में बांट कर पेश किया है। इससे आपको अंदाजा लग गया होगा कि नए एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम में मोबाइल यूजर का कितना ध्यान रखा गया है। तो चलिए जानते हैं इन सेग्मेंट में आपको कौन-कौन से फीचर्स मिलने वाले हैं।

People

1. Dark theme: डार्क थीम को गूगल ने एंड्रॉयड 10 के साथ पेश किया था। वहीं नए ओएस के साथ यह और भी स्मार्ट हो गया है। इस बार आपको Scheduled dark theme देखने को मिलेगा। अभी तक जहां डार्क थीम एक्टिवेट और डिएक्टिवेट करने के ही ऑप्शन थे, वहीं अब एंडरॉयड 11 से इसे शेड्यूल कर सकेंगे। यूजर अपनी मर्जी के हिसाब से चुन सकेंगे कि उन्हें कब, किस समय और कितने बजे डार्क थीम चाहिए। गूगल के नए एंडरॉयड 11 में डार्क और लाइड मोड का टाईम सेट किया जा सकेगा।

2. Conversations: Android 11 में conversations की इस बार खास चर्चा है। इस नई अपडेट के जरिये Google ने स्मार्टफोंस में नोटिफिकेशन्स और उनके यूज़ को और भी आसान कर दिया है। अब यूजर अपनी मर्जी के अनुसार यह तय कर पाएंगे कि उन्हें मैसेंजिग ऐप में किस से बात करनी है और किसके मैसेज को बिना ओपन किए उसे नोटिफिकेशन्स में ही रखना है। कॉन्वर्सेशन फीचर का अलग से सेक्शन बनाया गया है, जिनमें रीसीव हुए मैसेज में से अपनी पसंद के लोगों को चुना कर उसने बातचीत कर पाएंगे।

3. Bubbles: conversations को और भी स्मार्ट बनाने का काम किया है Bubbles ने। इस फीचर के जरिये मैसेज को फ्लोटिंग बबल के जरिए एक्सेस किया जा सकेगा। यह फीचर युवाओं को लुभाने वाला है। हालांकि यह व्हाट्सएप या फेसबुक मैसेंजर जैसी ऐप्स की नोटिफिकेशन को डायरेक्ट न दिखाते हुए गूगल एंडरॉयड 11 के ही यूआई पर काम करेगा। जिसे अपनी पसंद अनुसार ऑन व ऑफ किया जा सकेगा।

4. Voice Access और Keyboard Suggestion: Android 11 में Voice Access और Keyboard Suggestion जैसे शानदार फीचर्स को भी शामिल किया गया है। गूगल ने नए ऑपरेटिंग सिस्टम को यूजर सेंट्रिक बनाने का प्रयास किया है। इस फीचर्स के जरिये स्मार्टफोन यूजर्स को मल्टी टास्किंग में सहायता मिलेगी। एंडरॉयड 11 में ऑन-डिवाइस विजुअल कॉर्ट्रेक्स दिया गया है जो स्क्रीन पर मौजूद कॉन्टेंट और कॉन्टेक्स्ट को समझ कर कमांड्स ले सकेगा।

5. Device Control: कनेक्टेड डिवाइस की संख्या बढ़ती जा रही है और अब होम स्पीकर और स्मार्ट बल्ब सहित कइ चीजों का उपयोग हो रहा है। ऐसे में फ्यूचर को देखने हुए गूगल ने Android 11 के साथ एक्सटर्नल Device Control फीचर्स को अलग से पेश किया है। अब स्मार्ट डिवाईसेज जैसे स्मार्टटीवी, ब्लूटूथ हेडफोन व स्पीकर्स तथा अन्य होम अप्लाइअन्स को आप असानी से कनेक्ट कर पाएंगे और रिमोटली उसे कंट्रोल भी कर सकेंगे। हालांकि इसके लिए अलग से किसी बटंस को नहीं दिया गया है बल्कि कंपनी ने पावर बटन लॉन्ग प्रेस करने से ऐक्टिव करने का ऑप्शन दिया है।

6. Media Control: Android 11 में आपके इंटरटेनमेंट का भी खास ध्यान रखा गया है। Google ने नए ओएस के साथ Media Control को और भी सरल व स्मार्ट बना दिया है। स्मार्टफोन में मौजूद ऑडियो और वीडियो कॉन्टेंट को बिना किसी रूकावट के तथा लंबा प्रोसेस फॉलो किए बिना ही तेजी से आउटपुट डिवाईस को स्वीच करने की सुविधा देता है। इसके साथ ही क्विक ऑप्शन में अब Media Control के लिए पहले से ज्यादा आॅप्शन और ज्यादा अच्छा एनिमेशन देखने को मिलेगा। इसके साथ ही रिमोटली स्ट्रीम का भी विकल्प शामिल किया गया है।

Privacy

7. One-time permission: Google ने इस नए ऑपरेटिंग सिस्टम में यूजर सुरक्षा को और भी मजबूत किया है। One-time permission फीचर के साथ फोन में मौजूद ऐप्स को मोबाइल के माइक्रोफोन, कैमरा या लोकेशन इत्यादि की ऐक्सेस तो दी जाएगी, लेकिन तभी जब यूजर चाहेगा। अब कोई बाहरी ऐप सीधे ही आपको फोन को एक्सेस नहीं कर पाएगी। आप एक बार एक्सेस की परमिशन देंगे तो एक ही बार वह ऐप एक्सेस कर पाएगी। अगली बार ऐप अगर फोन को एक्सेस करना भी चाहे तो उसके लिए पहले यूजर की परमिशन लेनी ही पड़ेगी।

8. Permissions auto-reset: Android 11 के प्राइवेसी फीचर्स पर काफी बारिकी से ध्यान दिया गाय है। अक्सर फोन में कुछ ऐसी ऐप्स भी पड़ी रहती हैं जो बेहद कम ही यूज़ होती है। गूगल एंडरॉयड 11 में इस तरह की ऐप्स को अपने आप ऑटो रिसेट करते हुए उस ऐप की रन टाईम परमिशन बंद कर देता है और यूजर को नोटिफाई करता है। ऐसे में या तो यूजर ऐप को अनइंस्टाल कर सकता है या फिर जब अगली बार ऐप का यूज़ करेगा तब फिर से उसे फोन एक्सेस करने की परमिशन देनी होगी।

9. डबल अपडेट: Google ने अपने नए ऑपरेटिंग सिस्टम Android 11 में गूगल प्ले सिस्टम अपडेट फीचर को भी एडवांस किया है। इस फीचर के तहत कंपनी पहले से डबल अपडेट होने वाले मॉड्यूल पर काम करेगी। यहां यूजर की प्राइवेसी और डाटा सिक्योरिटी का खास ख्याल रखा जाएगा। गूगल का कहना है एंडरॉयड 11 से लैस सभी ब्रांड्स के फोंस में इस फीचर से यूजर की प्राइवेसी, सिक्योरिटी में इंप्रूवमेंट होगी।

10. Hinge angle sensor and foldables: 2019—20 में कुछ फोल्डेबल फोन आ चुके हैं वहीं आने वाले दिनों में इनकी संख्या में काफी इजाफा होने वाला है। ऐसे में गूगल ने पहले से ही तैयारी कर रखी है। अब फोल्डेबल फोन में हिंज पर सेंसर दिए जा सकेंगे जिससे न सिर्फ डिवाइस छोटा होगा बल्कि यूज में आसान भी हो जाएंगे।

11. Images and camera: आज कैमरा मोबाइल का सबसे महत्वपूर्ण पार्ट बन गया है। Android 11 में गूगल ने इस फीचर्स को और मजबूत कर दिया है। अब आप RAW capture, Logical camera support और Concurrent cameras जैसे फीचर्स का बाईडिफॉल्ट उपयोग कर पाएंगे। इसके साथ ही HEIF images with multiple frames सपोर्ट सहित कई अडवांस ऑप्शन मिलेंगे।

12. thermal status: नए ओएस में गूगल ने हीटिंग का विशेष ध्यान रखा है। कंपनी जानती है कि फोन पर हाई ग्राफिक्स गेम की मांग बढ़ रही है और इसमें फोन हीट होंगे। ऐसे में Android 11 में कंपनी ने खास फीचर्स पेश किया है जिसमें डिवाइस के टैंपरेचर को मॉनिटर किया जाता रहेगा। हीटिेंग ज्यादा होने पर यह खुद ही बैटरी पावर और ग्राफिक्स को ऑप्टिमाइज कर उसे कम कर देगा।

ये भी हैं खास
इन सबके अलावा Android 11 में 5G व्युजुअल इंडीकेटर, अडवांस स्टोरेज सिस्टम जहां अन यूज्ड फाइल को खुद से डिलीट करना और वॉटरफॉल डिसप्ले सहित कुछ खास फीचर्स भी आपको देखने को मिलेंगे।

यह भी पढ़ें - कितना भी पुराना मैसेज अब ढूंढ सकेंगे मिनटों में, WHATSAPP में जल्द जुड़ेगा ये नया फीचर