LoveSexaurDhokha: 'फ्रेंड' के साथ ही निकला उसकी बीवी का अफेयर

एक जासूस सिर्फ अपराध की तहकीकात ही नहीं करता बल्कि वह इंसानी मन और ज़िंदगी की परतों को भी टटोलता है. अपने पेशे में एक जासूस सामान्य दिखने वाले लोगों और रिश्तों के उन रहस्यों का पर्दाफाश करता है जो किसी जुर्म को बुन रहे होते हैं. इस विशेष सीरीज़ में एक जासूस की ज़बानी रिश्तों में जुर्म की कहानी.
'ये सब मुझे अच्छा नहीं लगता, मत किया करो अभय..' फिर अभय ने एक सरप्राइज़ देते हुए महंगा सा तोहफा जब शीला को दिया तो शीला ने कोई उमंग न जताते हुए अभय की सारी खुशी पर पानी फेर दिया. पिछले कई दिनों से ऐसा ही था कि अभय और शीला की शादी में कोई रस नहीं रह गया था. तन मन से एक दूसरे के हो चुकने के बाद पिछले काफी वक्त से दोनों के बीच हर तरह की दूरी थी और अभय को शक था. अभय को भनक तक नहीं थी कि सच जब सामने आएगा तो वह भौंचक्का रह जाएगा.

नोएडा के रहने वाले अभय और शीला की शादी को दो साल हो रहे थे और उनका रिश्ता करवट ले रहा था. हालांकि पहले ऐसा नहीं था. अरेंज मैरिज में अक्सर यह डर बना रहता है कि दोनों साथी पूरी तरह एक दूसरे के हो पाएंगे कि नहीं लेकिन अभय और शीला के केस में ऐसा नहीं था. शादी के बाद दोनों के बीच एक बेहतरीन रिश्ता बना. दोनों पूरी तरह एक दूसरे के हुए. यहां तक कि उनके कई दोस्त उन दोनों की जोड़ी में इतना प्यार, इतनी शिद्दत देखकर जलने भी लगे थे.

सब ठीक चलता रहा लेकिन शादी के करीब डेढ़ साल बाद दोनों के रिश्ते में अचानक तब्दीली आना शुरू हुई. शीला का मिज़ाज बदलने लगा. वह अभय से एक दूरी सी बनाने लगी और दिन ब दिन बात बढ़ती ही चली गई. अभय ने कई बार वजह जानने की कोशिश की तो शीला ने अक्सर टाल दिया और कभी कभी बात बहस में तब्दील हो गई, झगड़ा हुआ. फिर भी अभय यही कोशिश कर रहा था कि वह रिश्ते को पहले की तरह ज़िंदा कर सके.

यह भी पढ़ें -  ब्लैक स्विमसूट में SUNNY LEONE का दिखा दिलकश अंदाज, खूब वायरल हो रही है PHOTO
अभय अपनी कोशिशों में शीला को सरप्राइज़ के तौर पर कभी गिफ्ट देता तो कभी आउटिंग का प्लैन बनाता. कई तरह से शीला को खुश करने की कोशिश करता और शीला कुछ देर के लिए खुशी ज़ाहिर करती भी लेकिन फिर एक दूरी और अबोला सा खींच लेती. अभय को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि माजरा आखिर था क्या. अब उसने शीला के बारे में खबरें लेना शुरू कीं तो उसे यह पता चला कि उसके साथ घूमने जाने में दिलचस्पी न लेने वाली शीला उसकी गैर मौजूदगी में घूमने जाया करती थी.

अभय ने शीला से इस बारे में पूछा तो उसने कहा कि वह कभी कभी अपनी सहेलियों से मिलने जाती है या सहेलियां घर आती हैं. अभय ने और कुरेदना चाहा तो फिर बात झगड़े तक पहुंच गई. कुछ और दिन अपनी परेशानी में रहने के बाद एक दिन अभय हमारे पास आया. उसने अपनी सारी उलझन बताते हुए शक ज़ाहिर किया कि शीला का किसी का साथ अफेयर था या नहीं, वह सच जानना चाहता था.

हमने अभय को तसल्ली देते हुए कुछ ही दिनों में सच पता करने की बात कही. अगले ही दिन से हमने शीला पर निगरानी रखना शुरू की. हमारी टीम उसे लगातार वॉच कर रही थी लेकिन शीला केवल अपने आॅफिस जाती थी और घर लौट आती थी. कुछ दिनों तक हमें शीला का ऐसा कोई मूवमेंट नज़र नहीं आया जिससे उस पर किसी तरह का शक किया जा सके.

कुछ दिनों बाद शीला एक दोपहर ही आॅफिस से निकली और टैक्सी लेकर किसी कॉलोनी में गई. यहां शीला जिस घर में दाखिल हुई, उसका दरवाज़ा किसी लड़की ने खोला और दोनों ने हाथ मिलाया. फिर दरवाज़ा बंद हो गया. हमारी टीम ने आसपास पूछताछ की तो इस घर में एक कपल नीलेश और सुप्रिया के रहने के बारे में पता चला. हमारी टीम को शीला के इस मूवमेंट से कुछ सुराग लगने की उम्मीद थी लेकिन इस बारे में अभय से बात करने पर पता चला कि वो उनके फैमिली फ्रेंड थे.

शीला शाम को सुप्रिया से मिलने के बाद अपने घर लौट गई. दो दिन बाद हमारी टीम ने देखा कि जब अभय आॅफिस गया हुआ था, तब शीला अपने आॅफिस से सुप्रिया के साथ घर पहुंची और कुछ देर बाद यानी शाम तक सुप्रिया वापस चली गई. इसके बाद शीला की दो और सहेलियां उसके घर आईं और कुछ देर बाद चली गईं. अगले कुछ दिनों में हमारी टीम ने नोटिस किया कि शीला और सुप्रिया की मुलाकातें काफी जल्दी हो रही थीं.
अभय अपनी कोशिशों में शीला को सरप्राइज़ के तौर पर कभी गिफ्ट देता तो कभी आउटिंग का प्लैन बनाता. कई तरह से शीला को खुश करने की कोशिश करता और शीला कुछ देर के लिए खुशी ज़ाहिर करती भी लेकिन फिर एक दूरी और अबोला सा खींच लेती. अभय को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि माजरा आखिर था क्या. अब उसने शीला के बारे में खबरें लेना शुरू कीं तो उसे यह पता चला कि उसके साथ घूमने जाने में दिलचस्पी न लेने वाली शीला उसकी गैर मौजूदगी में घूमने जाया करती थी.

यह भी पढ़ें -  सीरियल रेपिस्ट बोला- रेप के पहले तोड़ देता था बच्चियों की टांग, पुलिस के उड़े होश

अभय ने शीला से इस बारे में पूछा तो उसने कहा कि वह कभी कभी अपनी सहेलियों से मिलने जाती है या सहेलियां घर आती हैं. अभय ने और कुरेदना चाहा तो फिर बात झगड़े तक पहुंच गई. कुछ और दिन अपनी परेशानी में रहने के बाद एक दिन अभय हमारे पास आया. उसने अपनी सारी उलझन बताते हुए शक ज़ाहिर किया कि शीला का किसी का साथ अफेयर था या नहीं, वह सच जानना चाहता था.

हमने अभय को तसल्ली देते हुए कुछ ही दिनों में सच पता करने की बात कही. अगले ही दिन से हमने शीला पर निगरानी रखना शुरू की. हमारी टीम उसे लगातार वॉच कर रही थी लेकिन शीला केवल अपने आॅफिस जाती थी और घर लौट आती थी. कुछ दिनों तक हमें शीला का ऐसा कोई मूवमेंट नज़र नहीं आया जिससे उस पर किसी तरह का शक किया जा सके.

कुछ दिनों बाद शीला एक दोपहर ही आॅफिस से निकली और टैक्सी लेकर किसी कॉलोनी में गई. यहां शीला जिस घर में दाखिल हुई, उसका दरवाज़ा किसी लड़की ने खोला और दोनों ने हाथ मिलाया. फिर दरवाज़ा बंद हो गया. हमारी टीम ने आसपास पूछताछ की तो इस घर में एक कपल नीलेश और सुप्रिया के रहने के बारे में पता चला. हमारी टीम को शीला के इस मूवमेंट से कुछ सुराग लगने की उम्मीद थी लेकिन इस बारे में अभय से बात करने पर पता चला कि वो उनके फैमिली फ्रेंड थे.

शीला शाम को सुप्रिया से मिलने के बाद अपने घर लौट गई. दो दिन बाद हमारी टीम ने देखा कि जब अभय आॅफिस गया हुआ था, तब शीला अपने आॅफिस से सुप्रिया के साथ घर पहुंची और कुछ देर बाद यानी शाम तक सुप्रिया वापस चली गई. इसके बाद शीला की दो और सहेलियां उसके घर आईं और कुछ देर बाद चली गईं. अगले कुछ दिनों में हमारी टीम ने नोटिस किया कि शीला और सुप्रिया की मुलाकातें काफी जल्दी हो रही थीं.
शीला के बारे में सुप्रिया से कुछ जानकारी हाथ लगने की उम्मीद थी इसलिए हमने सुप्रिया तक पहुंचने की तरकीब लगाई. सुप्रिया के पड़ोस के घर में हमने अपनी एक इनवेस्टिगेटर को किराए से रहने भेजा. कुछ ही दिनों में उसने सुप्रिया के साथ दोस्ती की और अक्सर एक दूसरे के घर पर बैठक का सिलसिला शुरू हो गया. चाय नाश्ते के बहाने हमारी इनवेस्टिगेटर ने सुप्रिया से शीला के बारे में जानने की कोशिश शुरू कर दी.

सुप्रिया ने यही बताया कि वह अपनी शादी में खुश नहीं है और उसकी तकलीफ और मजबूरी सिवाय उसके कोई और समझ भी नहीं सकता. बात पेचीदा होती जा रही थी और हमारी इनवेस्टिगेटर हर बातचीत को चुपके से रिकॉर्ड कर रही थी. एक दिन शीला उस वक्त सुप्रिया के घर पहुंची जब इनवेस्टिगेटर भी उसके घर पर थी. उसने दोनों की कुछ बातचीत सुनी और फिर भांप लिया कि शीला उदास है.

इनवेस्टिगेटर उस वक्त वहां से चली गई ताकि दोनों को कोई शक न हो लेकिन जाने से पहले एक मौका देखकर उसने एक स्पाय कैमरा उस कमरे में लगा दिया था. शाम को शीला के चले जाने के बाद किसी बहाने से इनवेस्टिगेटर सुप्रिया के घर गई और कैमरा वापस लेकर आई. इस कैमरे में जो तस्वीरें और आवाज़ें रिकॉर्ड हुई थीं, उनसे पूरा माजरा खुल गया और शीला का सच सामने आ गया.

हमने अभय को अपने आॅफिस बुलाया और किसी तरह उसे सच बताने से पहले सच सुनने के लिए तैयार किया. अभय जब मानसिक रूप से तैयार था तब हमने उसे बताया कि उसका शक सही था और शीला का किसी के साथ अफेयर वाकई था. इससे भी ज़्यादा हैरानी की बात यह थी कि शीला का अफेयर सुप्रिया के ही साथ था. दोनों लेस्बियन थीं और दोनों ने शादी सिर्फ सामाजिक कायदों के चलते की थी.

दोनों अपना यह सच परिवार को बता नहीं पाई थीं और परिवार की इज़्ज़त और सामाजिक बंधनों के चलते दोनों ने सामान्य रूप से शादी कर ली थी. यह सब सुनने के बाद अभय की हालत ऐसी थी कि काटो तो खून नहीं. उसने तस्वीरें और आॅडियो वगैरह के सबूत देखने सुनने के बाद एक गिलास पानी पिया और फिर भारी आवाज़ में यही पूछा कि 'अब क्या किया जाए'?

ऐसे में क्या किया जाए? इस सवाल का जवाब आसान नहीं था. एक रास्ता तो यह था कि वह तलाक ले सकता था. एक रास्ता यह था कि अब जो भी है, जैसा भी है, वह रिश्ता निभाता चला जाए. इसके अलावा एकाध विकल्प और भी था. कुछ देर सारे उपायों पर चर्चा के बाद अभय चला गया और उसके बाद फिर कभी उसने कॉंटैक्ट नहीं किया तो कहा नहीं जा सकता कि उसने कौन सा रास्ता चुना.

यह भी पढ़ें -  तार-तार हुई दोस्ती, बर्थडे पार्टी में सहेली को लाई बहन, भाई ने किया रेप