इन खिलाड़ियों ने की सबसे ज्यादा वनडे इंटरनैशनल मैचों में कप्तानी

कप्तान को फैसले लेने होते हैं। कई बार उसके फैसले ही मैच का निर्णय करते हैं। आपने जितने लंबे समय तक कप्तानी की है उससे अंदाजा लगता है कि टीम प्रबंधन को आपके फैसलों पर यकीन है। तो देखते हैं वनडे इंटरनैशनल में टॉप 5 खिलाड़ी जिन्होंने सबसे ज्यादा मैचों में की कप्तानी।
क्रिकेट में कप्तान की भूमिका किसी अन्य खेल के मुकाबले काफी ज्यादा होती है। यहां कप्तान पूरे खेल को नियंत्रित कर सकता है। वह टॉस के आधार पर बल्लेबाजी या गेंदबाजी चुन सकता है। वह बैटिंग ऑर्डर, गेंदबाजी, फील्डिंग का चयन करता है। टीम के अच्छे-बुरे प्रदर्शन के लिए नजर कप्तान पर रखी जाती है। लेकिन कुछ खिलाड़ी ऐसे रहे जिन्होंने लंबे समय तक यह जिम्मेदारी संभाली। देखते हैं वनडे इंटरनैशनल में सबसे ज्यादा कप्तानी करने वाले खिलाड़ी।

एलन बॉर्डर
ऑस्ट्रेलिया के 1987 विश्व कप विजेता कप्तान ने 178 मैचों में कप्तानी की। ऑस्ट्रेलिया ने इसमें से 107 मैच जीते। वह 100 से ज्यादा मैच जीतने वाले पहले कप्तान बने। 67 मैच ऑस्ट्रेलिया हारा। 1 मैच टाई रहा और तीन बेनतीजा रहे।

अर्जुन राणातुंगा
श्रीलंका के 1996 विश्व कप विजेता कप्तान ने टीम को काफी मजबूत बनाया। राणातुंगा ने 193 मैचों में कप्तानी की। उन्होंने 89 मैच जीते और 95 मैचों में श्रीलंका को हार मिली। एक मैच टाई रहा 8 मैच बेनतीजा रहे।

महेंद्र सिंह धोनी
पूर्व भारतीय कप्तान ने 200 वनडे इंटरनैशनल में टीम की कमान संभाली। धोनी की कप्तानी में भारत ने 110 मैच जीते और 74 मुकाबले हारे। भारतीय टीम के पांच मैच इस दौरान टाई रहे। वहीं 11 का कोई नतीजा नहीं निकला। धोनी की कप्तानी में भारत ने 2011 वर्ल्ड और 2013 चैंपियंस ट्रोफी जीती।

स्टीफन फ्लेमिंग
न्यूजीलैड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग ने 218 वनडे इंटरनैशनल मैचों में टीम की कमान संभाली। इसमें से कीवी टीम ने 98 मैच जीते और 106 में उसे हार का सामना करना पड़ा। 1 मैच टाई रहा और 13 का कोई नतीजा नहीं निकला। फ्लेमिंग का जीत प्रतिशत 48.04 रहा।

रिकी पॉन्टिंग
ऑस्ट्रेलिया के रिकी पॉन्टिंग ने 230 वनडे इंटरनैशनल मैचों में कप्तानी की। उनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने दुनियाभर में डंका बजाया। उन्होंने दो बार 50 ओवर वर्ल्ड कप जीता। पॉन्टिंग की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने 165 मैच जीते और 51 हारे। दो मैच टाई रहे और 12 का कोई नतीजा नहीं निकला। पॉन्टिंग की टीम का जीत प्रतिशत रहा 76.14।

यह भी पढ़ें -   3 बल्लेबाज जिन्होंने डेब्यू टेस्ट और अंतिम टेस्ट में शतक जड़ा