मासिक शिवरात्रि आज, इस काम को करने से साल भर होते रहेंगे चमत्कार

आज यानी 20 मई बुधवार को मासिक शिवरात्रि (Shivratri) की पूजा है. यह व्रत (Vrat) हर महीने में पड़ता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस व्रत का बहुत अधिक महत्व है. इस पावन दिन पर भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा की जाती है. मासिक शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

लेकिन अगर इस दिन कुछ काम को करने की मनाही भी है, और गलती से भी इन कामों को कर लिया जाये तो भगवान शिव नाराज भी हो जाते है और उस कारण व्यक्ति तो अनेक समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है । जाने मासिक शिवरात्रि के दिन क्या करें और क्या नहीं करें ।

मासिक शिवरात्र के अलावा साल में एक मुख्य महाशिवरात्रि आती है, इस दन शिव भक्त अनेक प्रकार से महादेव की आराधना करते हैं । शिवलयों में दिन भर भक्तों की भीड़ मेला के रूप में बनी रहती हैं । मासिक शिवरात्रि कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती हैं । नये साल की पहली मासिक शिवरात्रि का पूजन के लिए शुभ मुहूर्त मध्य रात्रि माना गया है, जिसे निशिता काल भी कहा जाता हैं ।

ऐसे करें पूजन

मासिक शिवरात्रि के के दिन प्रातः काल स्नान करके भगवान शिव मंदिर जाकर विधिवत बेल पत्र, दुग्ध, गंगा जल, शहद, पुष्प इत्यादि से भगवान का पूजन करें।

1- सूर्योदय के बाद शिवलिंग का पंचोपचार पूजन करें ।

2- गाय के घी का दीपक जलाएं ।

3- पीले कनेर के पुष्प व माला शिवलिंग को पहनाएं ।

4- केसर युक्त चावल की खीर का भोग शिवजी को लगाएं ।

5- ॐ नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जप करें ।

6- गर किसी को कोई रोह हो तो वे कुशोदक से रुद्राभिषेक करते हुए महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण करते रहे ।

यह भी पढ़ें -  सुन्दरकाण्ड पाठ के चमत्कारिक लाभ

मासिक शिवरात्रि के दिन इन कामों को करने से बचे

1- शिवलिंग पर तुलसी पत्ता भूलकर भी नहीं चढ़ाएं ।

2- इस दिन किसी की निंदा भी ना करें ।

3- इस दिन झूठ बोलने से बचे ।

4- मासिक शिवरात्र के दिन शिवजी को तिल भी नहीं चढ़ाना चाहिए ।

5- इस दिन शिवलिंग पर सिंदूर भी नहीं चढ़ाना चाहिए ।

यह भी पढ़ें बेहद ही चमत्कारी है ‘ॐ नमः शिवाय’ मंत्र, जानें इस अद्भुत मंत्र के लाभ