महिला बोली- मेरा पति नपुंसक है, तलाक दो...कोर्ट ने भेज दिया जेल

गुजरात के बनासकांठा में एक महिला ने अपने पति को नपुंसक बताकर कोर्ट में तलाक मांगा, लेकिन महिला का यह दांव कोर्ट में उल्टा पड़ गया और उसे जेल की हवा खानी पड़ी.
दरअसल, चार साल पहले महिला का विवाह हुआ था. उसका पति से मामूली बात पर विवाद चल रहा था. महिला ने पति को नपुंसक करार देते हुए अदालत की शरण ली और तलाक मांगा. इस पर कोर्ट ने ससुरालपक्ष को नोटिस जारी कर दिया.
लेकिन इस मामले में नया मोड़ तब आया जब समाज के लोगों ने महिला के पिता को समाज से बहिष्कार करने की चेतावनी दी गई. हाथ से मामला जाता देख महिला और उसके परिजन पति को नपुंसक बताने के दावे से पीछे हट गए.
महिला ने खुद को सही बताने के लिए उप-कलेक्टर और पुलिस के समक्ष लिखित में अर्जी दी. उसने कहा कि, 'मेरा पति नपुंसक है. मुझे उससे तलाक चाहिए. समाज के लोग मुझे तलाक ना लेने देने का विरोध कर रहे हैं और मेरे पिता को समाज से बहिष्कार करने और जुर्माना लगाने सहित एकतरफा फैसला ले सकते हैं. यदि उन्हें नहीं रोका गया तो मुझे और मेरे पिता को आत्महत्या करनी पड़ेगी.'
महिला के आत्महत्या की बात कहते ही महिला को हिरासत में ले लिया. इसके बाद उसे थराद मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया गया. यहां उसे कोई जमानतदार नहीं मिला. जिस कारण अदालत ने महिला को पालनपुर उप कारागार भेज दिया.

यह भी पढ़ें -   एयरहोस्टेस से बचपन की दोस्ती, शादी का झांसा, गर्भपात और फ‍िर...