बाइबिल की ऑनलाइन क्लास में हैकर ने चलाई पॉर्न क्लिप, चर्च ने ठोका Zoom ऐप पर मुकदमा

अमेरिका में कैलिफोर्निया (California) के एक चर्च ने Zoom ऐप पर कानूनी मुकदमा दायर किया है. Zoom ऐप के ज़रिए बाइबिल की ऑन लाइन क्लास के दौरान पॉर्न फिल्म की स्ट्रीमिंग (Streaming) शुरु हो गई जिस वजह से चर्च ने Zoom ऐप पर मुकदमा दायर किया है.

सैन फ्रांसिस्को में सबसे पुराना माने जाने वाला सैंट पॉल लूथरन चर्च बाइबिल की ऑनलाइन क्लास दे रहा था. Zoom ऐप के जरिए बाइबिल पढ़ाई जा रही थी. लेकिन उसी वक्त हैकर्स ने घुसपैठ करते हए पॉर्न फिल्म चला दी. सीएनएन के मुताबिक 6 मई को ये घटना घटी जब हैकर्स ने ‘पॉर्न बॉम्बिंग’ की. बाइबिल की ऑनलाइन क्लास में कई बुजुर्ग लोग शामिल थे. उस दौरान हैकर्स ने ‘जूम बॉम्बिंग’ कर पॉर्न क्लिप चला दी जिसे क्लास में शामिल लोग बंद भी नहीं कर सके क्योंकि हैकर्स के पास सारा कंट्रोल था.

चर्च ने मुकदमे में लिखा कि वीडियो फुटेज बेहद ही बीमार और घिनौने थे जिसमें बच्चों के साथ यौन दुर्व्यवहार किया जा रहा था. साथ ही ये भी लिखा कि Zoom ने ये स्वीकार किया है कि पॉर्न फिल्म दिखाने वाले हैकर की उसे जानकारी है और उसके बारे में प्रशासन को पहले भी कई बार सूचित किया जा चुका है.
Zoom ऐप के प्रवक्ता ने बीबीसी से बातचीत में इस घटना को बेहद भयावह बताया. Zoom ने बताया कि हैकर की पहचान कर उसके एक्सेस को ब्लॉक कर दिया गया है. साथ ही हैकर की हरकत के बारे में संबंधित अथॉरिटी को शिकायत कर दी गई है. जबकि चर्च की तरफ से नियुक्त वकील का आरोप है कि Zoom की तरफ से इस मामले में ठोस कदम नहीं उठाने की वजह से मुकदमा दायर करना पड़ा है.

Zoom एप को लेकर विवादों का सिलसिला जारी है. लॉकडाउन के दौरान Zoom एप का इस्तेमाल ऑनलाइन क्लास या फिर कॉरपोरेट मीटिंग के लिए किया जा रहा है. लेकिन ऐसी मीटिंग्स या क्लासेज़ को हैक कर पॉर्न फिल्म चलाने के मामलों में तेजी आ रही है. दुनियाभर में Zoom एप को लेकर ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब Zoom सेशन को हैक कर पॉर्न क्लिप चलाई गई है.

साइबर क्राइम विशेषज्ञ इसे तकनीकी भाषा में जूम बॉम्बिंग कहते हैं. जूम बॉम्बिंग के तहत हैकर किसी जूम मीटिंग या क्लास में जबर्दस्ती घुसपैठ कर जाता है और फिर मीटिंग या क्लास को हैक कर पॉर्न क्लिप दिखाने लगता है. यही वजह है कि हैकर की जूम बॉम्बिंग की वजह से यूज़र्स की निजी जानकारियों के लीक होने का खतरा बढ़ जाता है.

लॉकडाउन की वजह से करोड़ों लोग घरों में रहने को मजबूर हैं. वर्क फ्रॉम होम के दौर में Zoom ऐप की लोकप्रियता तेजी से बढ़ती जा रही है. लाखों लोग Zoom ऐप के जरिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहे हैं. लेकिन ऐसी घटनाओं की वजह से Zoom ऐप के यूज़र्स की प्राइवेसी और सिक्युरिटी के सवाल को लेकर Zoom ऐप लगातार निशाने पर है.

यह भी पढ़ें - एक वैश्या ने बताई आपबीती, लॉकडाउन के चलते इस तरह से बीत रही है सेक्स वर्कर्स की ज़िन्दगी