राज कपूर पुण्यतिथ‌िः जानिए राज कपूर से जुड़े 10 रोचक किस्से

राज कपूर की पुण्यतिथ‌ि (Raj Kapoor Death Anniversary): हिन्दी सिनेमा (bollywood) के शो मैन कहे जाने वाले सुपरस्टार अभिनेता राज कपूर (Raj kapoor) की आज 31 वां पुण्य तिथि हैं। पृथ्वीराज कपूर के घर 14 दिसंबर 1924 को इस कलाकार ने जन्म लिया। पृथ्वीराज को इस वक्त शायद ही मालूम होगा कि उनका यह चिराग एक दिन बड़ा होकर इतना नाम करेगा।

बता दें कि राज कपूर (Raj kapoor) ने चार दशक तक हिन्दी सिनेमा पर राज किया और एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दी। वह एक दिग्गज अभिनेता, डायरेक्टर और प्रोड्यूसर के तौर पर आज भी याद किए जाते हैं। राज कपूर 2 जून 1988 को ने इस दुनिया को अलविदा कह गए थे।

हिंदी फिल्म के पहले सुपरस्टार और शो मैन कहे जाने वाले राज कपूर की जिंदगी से जुड़े रोचक पहलुओं पर एक नजर....

राज कपूर का असली नाम रणबीर था।
नौ साल की उम्र में राज कपूर ने पहली बार कैमरे के सामने फिल्म इंकलाब में अभिनय किया।
उनकी पहली नौकरी क्लैपर ब्वॉय की थी, जिसके लिए उन्हें 10 रुपये महीना मिलता था।
4 दशक तक हिन्दी सिनेमा को एक से बढ़कर एक फिल्में देने वाले राजकपूर खुद को शो मैन ही कहलाना पसंद करते थे।
राजकपूर को वर्ष 1971 में पद्मभूषण और वर्ष 1987 में हिन्दी फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फालके से सम्मानित किया गया।
अभिनेता रहते हुए उन्हें दो बार, बतौर निर्देशक उन्हें चार बार फ़िल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
एशिया का सबसे बड़ा शो मैन! जो अपनी रंगीन पार्टियों में लाखों रुपयों की शराब पानी की तरह बहाने के किस्सों के बीच घिरा रहा।
उनकी खास फिल्मों में आवारा, आग, श्री 420, बरसात, मेरा नाम जोकर, तीसरी कसम और संगम को शुमार किया जाता है।
राज कपूर ही एकमात्र ऐसे कलाकार हैं, जिन्हें दो फिल्मों में अपनी ही तीन पीढ़ी के साथ काम करने का मौका मिला।
1995 में राम तेरी गंगा मैली राज कपूर के निर्देशन में बनी आखिरी फिल्म थी। जो 25 जुलाई को यह फिल्म रिलीज हुई।
राज साहब अस्थमा के मरीज थे। वह दिल्ली दादा साहब फाल्के पुरस्कार ग्रहण करने आए थे, वहीं उन्हें अस्थमा का अटैक पड़ गया। और उनकी मृत्यु हो गई।

यह भी पढ़ें -   कभी गरीबी के चलते घर रखना पड़ा था गिरवी, अब करोड़ों की मालकिन हैं सपना चौधरी, ऑडी-फॉर्च्यूनर में बाउंसर के साथ चलती हैं