शनि चल रहे उलटी चाल, जेठ के पहले बड़े मंगल पर हनुमानजी की पूजा से पाएंगे लाभ

आज यान‍ि क‍ि 11 मई से न्‍याय के देवता शन‍ि उलटी चाल चल रहे हैं। शन‍िदेव की यह चाल कई राशियों के लिए तमाम खुश‍ियां लेकर आएगी तो कुछ के लिए यह द‍िक्‍कतें बढ़ाएगी। लेकिन अगर आप शन‍िदेव की उलटी चाल के दुष्‍प्रभाव से बचना चाहते हैं तो जेठ के पहले बड़े मंगल यानी कि 12 मई को हनुमानजी के कुछ मंत्रों का जप करने लें। ज्‍योतिष शास्‍त्र के मुताबिक यद‍ि इन मंत्रों का पाठ क‍िया जाए तो शन‍ि की कुदृष्टि से होने वाले प्रभाव से राहत म‍िल सकती है। आइए जानते हैं ये कौन से मंत्र हैं और इनके जप से कैसा लाभ होता है?
बढ़ रही हो नेगेटिव‍िटी तो
ज्‍योतिष शास्‍त्र के मुताबिक अगर आपके ऊपर शन‍ि की कुदृष्टि हो और आप नेगेटिव‍िटी से परेशान हों तो हनुमानजी की पूजा करें। इसके लिए आप व‍िशेष रूप से जेठ मास के सभी मंगलवार को हनुमानजी की पूजा करें। उन्‍हें सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं। मान्‍यता है कि ऐसा करने से नेगेटिव‍िटी तो दूर होती ही है साथ ही पर‍िवार में भी सुख-शांत‍ि बनी रहती है।
अगर लगातार रहता हो तनाव
ज्‍योतिष शास्‍त्र के अनुसार कई बार कुंडली में शन‍िदेव की कुदृष्टि से लगातार तनाव लगा ही रहता है। इससे राहत पाने के लिए जेठ के मंगलवार को मानस‍िक रोगियों की सेवा करनी चाहिए। हालांकि इस समय लॉकडाउन चल रहा है तो ऐसे में दिव्‍यांगों की भी मदद कर सकते हैं। इससे भी शन‍ि के कुप्रभाव से राहत म‍िलती है।
अगर क‍िसी बीमारी से परेशान हों
ज्‍योतिष शास्‍त्र के मुताबिक अगर कोई व्‍यक्ति क‍िसी बीमारी से परेशान हो और तमाम इलाज के बाद भी राहत न म‍िल रही हो। तो ऐसे में मंगलवार के दिन बजरंग बाण का पाठ करें। जेठ के मंगलवार को यह पाठ करना अत्‍यंत लाभकारी माना गया है। लेकिन ध्‍यान रखें क‍ि बजरंग बाण का पाठ करते समय क‍िसी के भी प्रति मन में ईर्ष्‍या-द्वेष की भावना नहीं आनी चाहिए।
अगर ऐसी समस्‍या हो तो पढ़ें द्वादश नाम
ज्‍योतिष शास्‍त्र के अनुसार अगर क‍िसी काम में तमाम प्रयासों के बावजूद भी सफलता न मिल रही हो। या फिर कार्य पूरा होते-होते अधूरा रह जाता हो तो ऐसे में हनुमानजी के द्वादश नामों का जप करना चाहिए। मान्‍यता है क‍ि यह जप न केवल सभी बिगड़े कामों को बनाता है बल्कि जातक पर सभी देवताओं की कृपा भी बरसती है।

यह भी पढ़ें बेहद ही चमत्कारी है ‘ॐ नमः शिवाय’ मंत्र, जानें इस अद्भुत मंत्र के लाभ